Earth Day 2020: A poem by a 14-year-old on the importance of water
LMB Staff
Written by
22/04/2020

On the 50th earth day, a 14 year old Scottish high school student, Divvyesh Ramesh wrote a beautiful poem on the importance of water: पानी एक ऐसी चीज़ है  जिसके बिना जीना असंभव है कुछ लोग गाते हैं “आज ब्लू है पानी पानी” और कुछ सोचते हैं  “काश मिल जाए आज थोड़ा सा पानी।” यदि […]

On the 50th earth day, a 14 year old Scottish high school student, Divvyesh Ramesh wrote a beautiful poem on the importance of water:

पानी एक ऐसी चीज़ है 

जिसके बिना जीना असंभव है

कुछ लोग गाते हैं “आज ब्लू है पानी पानी”

और कुछ सोचते हैं 

“काश मिल जाए आज थोड़ा सा पानी।”

यदि गन्दा पानी पिएंगे हम नल से

बीमार पड़ेंगे बस दो पल में

पानी सदा साफ पीना है

हमें स्वस्थ सदा रहना है।

फालतू में जल नहीं हैं बहाना 

घंटे भर हमें नहीं है नहाना

पानी अब बन गया है सीमित 

हल जल्दी ढूंढना है यदि रहना है हमें जीवित।

टपकते नलों का जल्दी मरम्मत करना है

बारिश के जल का संग्रहण करना है

हर एक घर को पानी पहुँचाना है

इस जल के बिना भी क्या जीना है।

समुद्रों में प्रदूषण नहीं फैलाना है

मछलियों आदि के घरों को बचाना है

कुछ लोग गाते हैं की “आज ब्लू है पानी पानी” 

और कुछ सोचते हैं 

“काश मिल जाए आज थोड़ा सा पानी।”

-Divvyesh Ramesh

दिव्व्येश रमेश

LMB Staff
Written by
Let Me Breathe (LMB) is a platform that provides space to document and tell unbiased stories of living and surviving air pollution, climate change and highlights positive stories on sustainability– by simply using their 🤳🏾
Comments
Videos
Scan the snap code to watch our show!

The clocks ticking is Letmebreathe’s international snap show aiming to showcase stories on pollution, sustainability and the climate crisis.

Follow the show exclusively on Snapchat.